Friday, February 24, 2012

उफ़ वों हमको मिले भी नहीं....


17 comments:

  1. तमाम बातें कह भी दी और कुछ न कहा
    अल्फाजो का दर्द हिचकियों की जुबान
    कुछ और ठहरते तो सायद कह भी देते
    वो ठहरे तो भी कहने को कुछ न रहा !!!!

    क्या कहा!! क्या सुना!!
    कहने-सुनने को अब कुछ न रहा @@@#@#

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks ....
      ठहरना थोड़ा मुश्किल था जनाव ......

      Delete
  2. अच्छी गज़ल कही है अज़ीम साहब ....बहुत-बहुत मुबारक हो ! २६ फरवरी दिन रविवार से www.openbooksonline.com पर होने वाले तरही मुशायरे में आप सादर आमंत्रित हैं !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर गज़ल...

    ReplyDelete
  4. उफ़्फ़ ...क्या गजब की गजल है ...

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया भाई....

    ReplyDelete
  6. uf ye gazab hai likha
    uf ye pahle pdha kyo nahi
    behtarin rachana

    ReplyDelete
  7. ये आँसू इतनी आसानी से नहीं ढलते|
    बढ़िया गजल

    ReplyDelete
  8. वाह!!!!!!!!!!!!!!

    कमाल की गज़ल....................
    बेहद खूबसूरत ब्लॉग....................

    पहली नज़र में भा गया....
    अनु

    ReplyDelete
  9. बहुत से मिसरे बज़्न में नहीं हैं । मिले और गिले का काफिया चले और ढ़ले सही नहीं है । ना का बज़न 1 होता है आपने 2 लिया है ।- शरद तैलंग

    ReplyDelete